बहता दरिया एक शायर….

एक अधूरा अरमान हू मैं

                                    इतनी भीड़ में भी तन्हा हू मैं !

पूछो ना मेरे अतीत के बारे में

                                        लिपटा सामान हू मैं !!

रहे हैं वफ़ा में मेरे

                         नक़्शे कदम सलामत !

फिर क्यों कहते हो

                           कि नादान हू मैं !!

साथ अगर जबान देती

                                 तो मैं बताता !

गम के सायों में

                       छुपी मुस्कान हू मैं !!

किस हवा से उजड़ा

                            मेरा आशियाँ !

जबकि खुद एक

                       तूफान हू मैं !!

क्यों जलाते हो

                      मुझे मुर्दा समझकर !

सुनो आखिर

                   जिन्दा इंसान हू मैं !!

मैं तो बहता दरिया हू

                              समुंद्र में उतर जाऊगा !

कौन मिटा सकता हैं भला मुझे

                                  मैं तो शायर हू किताबों में उतर जाऊगा !!

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s